मुझे मेरे घर है जाना

img-20161030-wa0007

मुझे मेरे घर है जाना

याद है मुझे वो कक्षा 5 का समय

जब दीवाली सबसे बड़ा त्योहार होता था

एक दो दिन का नहीं पूरे दस दिन का अवकाश होता था

ताईजी ताउजी, चाचा चाची सब एक घर मे इकहट्टा होते थे

सब साथ मिलकर घर की सफाई करते थे

इस सफाई मे कितनी खोई चीज़े मिलती थी

जिनके खोने की तारीख तक पता नहीं होती थी |

 

बाज़ार का सारा काम बाँट दिया जाता था

पापा पूरा पूजा का सामना लाते थे

ताउजी चाचा पटाखों की परख मे माहिर थे

धनतेरस पर सारे लड़के बैठ कर घर पे लाइट लगाते थे

और मैं और मेरी बहन बैठ कर कपड़ो का मैल बिठाते थे

 

दीवाली के पटाखे सबमे बराबर बाँटे जाते थे

हर बार मेरे ही पटाखे  बच जाते थे

और सबसे मज़ेदार बात

बचे पटाखे या तो नये साल के दिन काम आते थे

या फिर उनसे बंदर भगाए जाते थे

 

 

आँठ दस दिन घर का माहौल बदल जाता था

मिठाई खा खा कर सबका वजन एक दो किलो तो बढ़ ही जाता था

छुट्टियों के अंत मे भाई बहनो को छोड़ने ट्रेन पर पूरा परिवार जाता था

सच मे उस दिन बड़ा बुरा लगता था

क्योंकि अगले दिन से फिर से स्कूल जाना होता था

 

धीरे धीरे सबका आना बंद होता गया

हर कोई अपने काम मे व्यस्त होता गया

दीवाली का चाव भी फीका पड़ता गया

अब बस यह एक त्योहार रह गया

 

पर आज जब मैं खुद घर से इतना दूर हूँ

घर ना जाने के लिए मजबूर हूँ

तो पुराने दिनो की याद बहुत सताती है

चाचा की कॉफी और दादाजी की साइकल बहुत यात आती है

 

आज छुट्टी तो है पर कहीं घूमने नहीं जाना

मुझे बस मेरे अपनो से मिलने मेरे घर है जाना|

 

रिया शर्मा

 

शब्द

p16wp

शब्द

कैसे अपने मन को शब्दो मे बयान करुँ?

शब्द तो फिर भी कर दू उनके अर्थो को कैसे बयान करुँ?

क्योंकि इस दुनिया मे अर्थ का  ही तो अर्थ  है

शब्द तो वही है पर अर्थ हर वाक्य मे अलग हैं|

 

कभी एक शब्द किसी के चेहरे की हँसी बन जाता है

कभी वही शब्द किसी के आँखों की नमी का कारण बन जाता है

जो शब्दो के इस खेल को समझ गया

वो दुनिया के इस भंवर को जीत गया|

 

कोशिश करते रहना शब्दो से दिल जीत सको

वरना रिश्ते तो बिना बोले भी टूट जाते है

और इनके मुआवज़े उम्र भर के आँसुओ से भरे जाते है|

 

 यह शब्द ही है जो हमें एक दूसरे से जोड़े रखते है

वरना लोग तो जगह की दूरी से भी दिलो की दूरी बना सकते है|

 

पर याद रखना हर चीज़ के दो पहलू होते है

कभी अच्छाई तो कभी बुराई के प्रतीक होते है

अगर संभाल सको दोनो को एक साथ

तो याद रखना वर्णमाला मे वर्ण  नही मोती जड़े होते है|

 

रिया शर्मा